Raksha Bandhan Best Poem 2019 (रक्षाबंधन पर कविता 2019)


(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});


श्रावण
मास की शुक्ल मास की पूर्णिमा को मनाए जाने वाला रक्षाबंधन का पर्व पूरे देश में
हर्ष और उल्लास के साथ मनाया जाता है। यह पर्व भाई-बहन के पवित्र रिश्ते और अटूट
प्रेम का प्रतीक है।
यह
एक बेहद खूबसूरत पर्व है
, जिसका हर भाई-बहन पूरी साल बेसब्री से
इंतजार करते हैं। इस पर्व से भाई-बहन की कुछ खट्ठी-मीठी नोंकझोंक और प्यारी यादें
जुड़ी हुईं है।

भाई-बहन
के बीच बचपन में छोटी-छोटी बातों को लेकर लड़ाई-झगड़ा होता है
, लेकिन
फिर भी भाई-बहन एक-दूसरे पर अपनी जान छिड़कते हैं। इस तरह रक्षाबंधन का पर्व न
सिर्फ भाई-बहन को उनके सुनहरें पलों की याद दिलवाता है
, बल्कि
उनके अनूठे रिश्ते की बुनियाद को और अधिक मजबूती प्रदान करता है।

रक्षाबंधन
के पर्व से भाई-बहन की कई भावनाएं जुड़ी हुई हैं। वहीं हम आपको अपने इस आर्टिकल
में इस पावन पर्व पर कुछ ऐसे ही भावनाओं को समेटे हुए ऐसी कविताएं उपलब्ध करवा रहे
हैं
, जिसे
पढ़कर आपको बेहद सुखद और अद्भुत एहसास होगा। इसके साथ ही हमें उम्मीद हैं कि आपको
रक्षाबंधन पर लिखी गईं ये कविताएं
– Poem on Raksha
Bandhan
जरूर  पसंद आएंगी, जो आइए जानते हैं
Raksha Bandhan Poem 1

स्नेह
की डोर लिए राखी का त्योहार आया है
थाल
आशीष भरी मंगलमयी प्यार लाया है।
रोली-अक्षत-मीठी
आरती उतारूँ मेरे भाई
बाँध
राखी अक्षय हो सुःख तेरा माँगू मेरे भाई
किसी
को गा के सुनाऊँ किसी को बाग में घुमांऊँ
मुस्कुराती
हुई यादों का संसार लिए आया है
स्नेह
की डोर लिए राखी का त्योहार आया है
कभी
आँखों में नमी बन आ जाते हो
कभी
बचपन की यादों में खिलखिलाते हो
चाकलेट
पेड़ों में नहीं लगते पागल है तुमको बताना
दूर
रह कर आँखों से छलक जाए वो प्यार लाया है
स्नेह
की डोर लिए राखी का त्योहार आया है
उम्र
लेकर मेरी जियो खुश रहना मेरे भाई
तुम
जो हो दोस्त मेरे मुझे तुमसे कहना मेरे भाई
भुला
न देना मुझे मेरा बचपन वहाँ बीता
मेरे
हाथों में तेरा हाथ फिर इक बार लाया है
स्नेह
की डोर लिए राखी का त्योहार आया है
थाल
आशीष भरी मंगलमयी प्यार लाया है ।


(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});



Raksha Bandhan Poem 2

राखी आयी खुशियां लायी राखी आयी खुशियां लायीबहन आज फूलें न समाईरखीरोली और मिठाईइन सब से थाली खूब सजाई ! बांधे भाई के कलाई पे धागाभाई से लेती हैं वादारखी की लाज भैया निभानाबहन को कभी भूल न जाना ! भाई देता बहन को वचनदुःख उसके सब कर लेंगा हरनभाई बहन का प्यार हैंत्यौहार रखी का न्यारा हैं !


Raksha Bandhan Poem 3


(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

राखी
बांधत जसोदा मैया।
राखी
बांधत जसोदा मैया।
विविध
सिंगार किये पटभूषण
, पुनि
पुनि लेत बलैया ॥
हाथन
लीये थार मुदित मन
, कुमकुम
अक्षत मांझ धरैया।
तिलक
करत आरती उतारत अति हरख हरख मन भैया ॥
बदन
चूमि चुचकारत अतिहि भरि भरि धरे पकवान मिठैया ।
नाना
भांत भोग आगे धर
, कहत
लेहु दोउ मैया॥
नरनारी
सब आय मिली तहां निरखत नंद ललैया ।
सूरदास
गिरिधर चिर जीयो गोकुल बजत बधैया ॥



(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

Raksha Bandhan Poem 4

राखी
का आज त्यौहार है
 राखी
का आज त्यौहार है
बहन
भाई के लिए बहुत खास है
लाया
खुशियों की बहार है
रेशम
के धागे से बंधा प्यार है।
 बहनें
आज भाइयों को
कुमकुम
का तिलक लगाती हैं
अपने
प्यारे हाथों से
भाई
को मिठाई खिलाती है।
 


(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});
भाई
की सूनी कलाई पर
रेशम
का धागा बांधती है
बदले
में भाई से रक्षा का
अनमोल
वायदा पाती है।
 भाई
भी सुंदर सुंदर तोहफे
बहनों
के लिए लाते हैं
तोहफे
में क्या मिलने वाला है
बहनें
उत्सुक रहती हैं।
 बहनें
भी भाई की
सलामती
की दुआ करती है
खुश
रहो तुम सदा भैया
यही
प्रार्थना करती है।
 बहन
भाई का एक दूसरे पर
होता
अटूट विश्वास है
रेशम
के धागे से ये
बंधा
हुआ त्यौहार है।


Raksha Bandhan Poem 5

भैया
मेरे
अच्छे
भैया मेरे

सबसे
प्यारे भैया मेरे

तुम
हो मेरे रखवाले

मुझसे
ये राखी बन्धवाले

तेरे
साथ मैं चलूँगी..
मेरे
साथ तुम चलना

तेरी
रक्षा मैं करुगी..
मेरी
रक्षा तुम करना..
राखी
का ये बंधन प्यारा..
इस
बंधन को बांधे रखना..
टूटे
ना रिश्तो का धागा

मजबूत
अपने इरादे रखना

जब
मैं तुमसे रूठ जाऊं..
तो
तुम मुझे मनाना..
जब-जब
मैं रोऊँ..
तुम
मुझे हंसाना..
मेरे
भैया दूर ना जाना..
मुझसे
तुम राखी बंधवाना..
प्यारे
प्यारे भैया मेरे

सबसे
अच्छे भैया मेरे
….

Raksha Bandhan Poem 6


प्रीत
के धागो के बंधन में
,
स्नेह
का उमड़ रहा संसार
,


(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});
सारे
जग में सबसे सच्चा
,
होता
भाई बहन का प्यार
,
नन्हे
भैया का है कहना
,
राखी
बांधो प्यारी बहना..
 सावन
की मस्तीली फुहार
,
मधुरिम
संगीत सुनती है
,


(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});
मेघों
की ढोल ताप पर
,
वसुंधरा
मुस्काती है

 आया
सावन का महीना
,
राखी
बांधो प्यारी बहना.
 धरती
ने चाँद मामा को.
इंद्रधनुषी
राखी पहनाई
,
बिजली
चमकी खुशियों से
,
रिमझिम
जी ने झड़ी लगाई..
 राजी
ख़ुशी सदा तुम रहना
,
राखी
बाँधों प्यारी बहना.

दोस्तों
आपको उपर दिए गये रक्षाबंधन कविता कैसी लगी हमको कमेंट करके जरुर बताये और अगर
आपको शायरी पसंद आई तो इसको सोशल मीडिया पर शेयर करना न भूले!

Thanks to Reading This Post


(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

Like Reaction
Like Reaction
Like Reaction
Like Reaction
Like Reaction

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here